अमृत पान कर 25 प्राणी गुरु वाले बने

Uttarakhand

देहरादून। शांति, शीतलता एवं सब्र के पुंज, शहीदों के सरताज, पंचम पातशाह श्री गुरु अर्जन देव जी महाराज के शहीदी दिवस के उपलक्ष्य मंे गुरुद्वारा करनपुर साहिब मे किये गये अमृत संचार मे पंज प्यारों की देख रेख मे 25 प्राणियों ने अमृत पान किया।
जत्थेदार हरप्रीत ने बताया कि अमृत पान कराने वालों मे भाई संतोख सिंह, भाई गुरबन्स सिंह, भाई इंदरजीत सिंह, भाई तारा सिंह एवं भाई दलजीत सिंह शामिल थे, उन्होंने ने कहा कि अमृत पान  25 प्राणियों ने किया एवं वे गुरु वाले बने स जत्थेदार भाई हरप्रीत सिंह ने अमृत पान करने वालों को अमृत की महिमा के बारे मे बताते हुए कहा कि गुरु गोबिन्द सिंह जी ने 1699 की बैसाखी वाले दिन पंज प्यारों को अमृत पान करा कर अपने आप भी अमृत की दात प्राप्त कर, गोबिन्द राय से गोबिन्द सिंह बने एवं सिख जगत को हुक्म किया कि सिख को खन्डे बाटे की पाहुल लेकर गुरु की बताई मर्यादा अनुसार जीवन व्यतीत करना चाहिए। अमृत पान करने वालों को गुरु घर से सरोपे दे कर सम्मानित किया गया। इस अवसर गुरुद्वारा करनपुर के प्रधान अजीत सिंह, महासचिव गुरविंदर पाल सिंह सेठी, जसदेव सिंह, बलविंदर सिंह एवं जसविंदर सिंह आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *